भारत सरकार के वाणिज्य विभाग में आपका स्वागत है : 91-11-23062261
Shri Narendra Modi
श्री नरेंद्र मोदी
भारत के प्रधान मंत्री
प्रभागों
वित्त विभाग
प्रभागों के कार्य

एकीकृत वित्त (आई एफ) प्रभाग के प्रमुख अपर सचिव और वित्तीय सलाहकार हैं और इसके अंतर्गत मुख्य लेखा नियंत्रक (वाणिज्य), आर्थिक सलाहकार (वित्त), एकीकृत वित्त यूनिट एवं बजट और लेखा अनुभाग में तीन अवर सचिव शामिल हैं।

एकीकृत वित्त (आईएफ) प्रभाग के कार्य
प्रभाग की मुख्य गतिविधियों में शामिल हैं:
  • वाणिज्य विभाग और इसके संबद्ध एवं अधीनस्थ कार्यालयों (राजस्व और पूंजीगत व्यय दोनों) के वित्तीय प्रस्तावों के लिए सरकारी व्यय/सहमति से जुड़े सभी मामलों पर वित्तीय सलाह देना।
  • व्यय विभाग के माध्यम से सचिवों की स्क्रीनिंग समिति की स्वीकृति प्राप्त करना सहित वाणिज्य विभाग के अधिकारियों की विदेशी प्रतिनियुक्ति प्रस्तावों की जांच और सहमति।
  • मासिक और त्रैमासिक आधार पर स्वीकृत अनुदान के व्यय की प्रगति की निगरानी और समीक्षा करना।
  • अर्थव्यवस्था/व्यय के युक्तिकरण पर व्यय विभाग द्वारा जारी निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित करना।
  • अनुदान सं 10, वाणिज्य विभाग के तहत विभिन्न योजनाओं की प्रगति की निगरानी करना।
  • एस.एफ.सी./ई.एफ.सी/ कैबिनेट नोट आदि का मूल्यांकन करना और उस पर सलाह देना।
  • ऑडिट/पीएसी पैरा और अन्य समितियों पर उत्तरों पर नजर रखना और पुनरीक्षण करना।
  • डीओई आदि को संदर्भित करने के लिए आवश्यक सभी व्यय प्रस्तावों की जॉच करना।
  • एम.एम.टी.सी., एस.टी.सी., आई.टी.पी.ओ, के बोर्डों में एएस एंड एफए द्वारा भागीदारी।
  • पीईसी, टी बोर्ड, कॉफी बोर्ड, रबर बोर्ड, तंबाकू बोर्ड, मसाला बोर्ड एफ.डी.डी.आई, यू.पी.ए.एस.आई. एपीडा, एम्पीडा आदि के बोर्डों पर आर्थिक सलाहकार (वित्त) द्वारा भागीदारी।
  • राजस्व और पूंजीगत व्यय के संबंध में विभिन्न संगठनों, ईपीसी, कमोडिटी बोर्ड, प्राधिकरणों को अनुदान जारी करना।
  • विभाग की निधि उपयोग की स्थिति के संबंध में व्यय विभाग के साथ विस्तृत वार्तालाप में भाग लेना और संशोधित अनुमानों के लिए बजट हेतु विचार-विमर्श के दौरान अतिरिक्त निधियों की मांग करना।
  • बजट-पूर्व विचार-विमर्श के दौरान राजस्व विभाग के समक्ष प्रस्तुति करने के लिए शुल्क संरचना में परिवर्तन से संबंधित सुझाव देना।
  • राजस्व से संबंधित अन्य विविध मुद्दे जैसे वित्त आयोग के साथ वार्ता, बजट घोषणा की मॉनीटरिंग आदि, करना।
  • विभिन्न निर्यात संवर्धन स्कीमों के लिए बजट राशि की मॉनीटरिंग और राशि जारी करने की अनुमति देना, जिसमें शामिल है :
    • टी.आई.ई.एस. (निर्यात व्यापार अवसंरचना स्कीम)
    • ईसीजीसी (निर्यात ऋण गारंटी निगम) और एनईआईए (राष्ट्रीय निर्यात बीमा आश्वासन) – निर्यात जोखिम को कवर करके प्रतिस्पर्धा में वृद्धि करना
    • एम.ए.आई (बाजार पहॅुच पहल) – निर्यात को बढ़ावा देना
    • शुल्क वापसी, ब्याज समकरण स्कीम (आईईएस)
    • ई.ओ.यू/एस.ई.जेड को अंतिम सीमा शुल्क की वापसी।
  • बोर्डों, प्राधिकरणों और स्वायत्त निकायों को सहायता जिसमें शामिल हैं:
    • ए.पी.ई.डी.ए (कृषि उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण), एम.पी.ई.डी.ए (समुद्री उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण), रबर, मसाले, कॉफी और चाय बोर्ड और आई.आई.एफ.टी (भारतीय विदेश व्यापार संस्थान), आई.आई.पी (इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पैकेजिंग), एफडीडीआई (फुटवियर डिजाइन डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट), सीआरआईटी, आदि जैसे अन्य संस्थानों से प्राप्त सभी प्रस्तावों की वित्तीय दृष्टिकोण से जांच करना।
    • योजना, बजट को प्रदान किया गया परिव्यय और बागान क्षेत्र को प्रशासित करना कृषि और समुद्री उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देना और उनका प्रबंधन करना।
  • अवसंरचना का आधुनिकीकरण जिसमें शामिल हैं
    • डी.जी.सी.आई. एंड एस. (वाणिज्यक आसूचना और सांख्यिकी महानिदेशालय) डी.जी.एफ.टी (विदेश व्यापार महानिदेशालय)।
    • निर्यात संवर्धन, लाइसेंस और विनियमन, ई-गवर्नेंस को बढ़ावा देने और क्षमता विकास के लिए प्रदान किया गया परिव्यय।
बजट एवं लेखा अनुभाग के कार्य
  • अनुदान संख्या 10-वाणिज्य विभाग के संबंध में बजट तैयार करना और संबंधित कार्य।
  • वाणिज्य विभाग की विस्तृत अनुदान मांगों (डीडीजी) और आउटकम बजट का समन्वय, संकलन और मुद्रण और संसद में रखना।
  • संशोधित बजट और अनुपूरक मांगों को अंतिम रूप देना।
  • अंतिम आवश्यकताऍ तैयार करना और बचत और निधियों के पुन: विनियोजन का अभ्यर्पण करना।
  • वाणिज्य विभाग की विस्तृत अनुदान मांगों के संबंध में संसद की स्थायी समिति संबंधी समन्वय कार्य।
  • वाणिज्य विभाग के संबंध में सी एंड एजी ऑडिट पैराग्राफ और पीएसी सिफारिशों के निपटान की प्रगति की निगरानी करना।
  • व्यय की प्रगति की निगरानी करना और वाणिज्य सचिव को मासिक और त्रैमासिक प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत करना।
प्रभाग के अधिकारी

निम्नलिखित अधिकारी/कर्मचारी वित्त शाखा में आज की तारीख तक कार्यरत हैं:

  • श्री शशांक प्रिय : अपर सचिव और वित्तीय सलाहकार
  • वर्तमान में रिक्त है : आर्थिक सलाहकार
  • श्री सी. एम. नेगी : अवर सचिव
  • श्री एम. एम. नटवर : अवर सचिव
  • श्री ओ. पी. जोशी : सलाहकार (आईएफडी)
बजट और लेखा प्रभाग के अधिकारी
  • श्री शशांक प्रिय : अपर सचिव और वित्तीय सलाहकार
  • डॉ शकुंतला : सीसीए
  • श्रीमती जेनी किलोंग : लेखा नियंत्रक
  • श्री ओम प्रकाश : ए. ओ., बजट एवं लेखा
  • श्री एस एस राणा : परामर्शदाता