भारत सरकार के वाणिज्य विभाग में आपका स्वागत है : 91-11-23062261
89_azad
Shri Narendra Modi
श्री नरेंद्र मोदी
भारत के प्रधान मंत्री

स्टेट ट्रेडिंग कॉरपोरेशन (एसटीसी) राज्य व्यापार निगम

एसटीसी की स्थापना 18 मई 1956 को मुख्य रूप से पूर्वी यूरोपीय देशों के साथ व्यापार करने और देश से निर्यात के विकास में निजी व्यापार और उद्योग के प्रयासों के पूरक के लिए की गई थी। तब से, एसटीसी ने देश की अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसने भारत में बड़े पैमाने पर उपभोग की आवश्यक वस्तुओं (जैसे गेहूं, दालें, चीनी, खाद्य तेल इत्यादि) और औद्योगिक कच्चे माल के आयात की व्यवस्था की है और भारत से बड़ी संख्या में वस्तुओं के निर्यात को विकसित करने में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है। एसटीसी की मुख्य ताकत थोक कृषि वस्तुओं के निर्यात / आयात को संभालने में है। पिछले कुछ वर्षों में, एसटीसी ने इस्पात, लौह अयस्क, गुड़ के निर्यात और बुलियन, हाइड्रोकार्बन, खनिज, धातु, उर्वरक, पेट्रो-रसायन इत्यादि के निर्यात में भी विविधता लाई है। इसने हाल के वर्षों में एसटीसी को उच्च स्तर के प्रदर्शन को प्राप्त करने में मदद की है। । एसटीसी आज अपने ग्राहकों की विशिष्ट आवश्यकता के अनुसार, किसी भी परिमाण के व्यापार सौदों की संरचना बनाने और निष्पादन करने में सक्षम है।

वर्ष 1991 में व्यापार नीतियों के उदारीकरण के बाद से, निगम प्रतिस्पर्धी वैश्विक व्यापारिक वातावरण में वाणिज्यिक शर्तों पर अपने अधिकांश व्यापारिक कार्यों को पूरी तरह से करता है।

एसटीसी की प्रदत इक्विटी पूंजी `60 करोड़ रूपए है । 31.03.2014 के अनुसार । एसटीसी की इक्विटी में भारत सरकार की हिस्सेदारी 90% थी। शेष 10% इक्विटी म्यूचुअल फंड, वित्तीय संस्थानों और जनता के पास है। एसटीसी ने लाभांश और कॉर्पोरेट करों के भुगतान के माध्यम से सरकारी खजाने को आज की तारीख तक लगभग 1200 करोड़ रुपये का योगदान दिया है । 31.03.2014 को एसटीसी की निवल संपत्ति 98 करोड़ रूपए थी

एसटीसी के निदेशक मंडल में पूर्णकालिक अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक, पांच पूर्णकालिक निदेशक, वाणिज्य मंत्रालय के दो पदेन निदेशक और समय समय पर सरकार द्वारा नियुक्त स्वतंत्र निदेशक शामिल हैं। वर्तमान में, एसटीसी के बोर्ड में पाँच स्वतंत्र निदेशक हैं।

भारत में एसटीसी के तेरह शाखा कार्यालय हैं, जिनमें से प्रमुख मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, अहमदाबाद , बैंगलोर और हैदराबाद में हैं। हाल ही में, एसटीसी ने पुडुचेरी और सिलवासा में शाखा कार्यालय खोलने का भी निर्णय लिया है ताकि इन क्षेत्रों में / उसके आसपास मौजूद व्यापार की संभावनाओं का लाभ उठाया जा सके। 31.03.2014 को निगम की कुल श्रमशक्ति 795 थी। एसटीसी के पास तरल / शुष्क कार्गो के भंडारण के लिए देश के विभिन्न स्थानों पर अपने स्वयं के टैंक फार्म, भंडागार, गोदाम हैं ।

एसटीसी की सहायक कंपनी, एसटीसीएल लिमिटेड, जो कि बैंगलोर में स्थित है, बन्द होने की प्रक्रिया में है।

  •  जवाहर व्यापार भवन टॉल्स्टॉय मार्ग , नई दिल्ली -110001
  •  (91) 11-23313177, (91) 11-23701100, (91) 11-23701123 (F), 23701191 (F)
  • co.stc@nic.in
  •   www.stc.gov.in